तीन माह से अधिकारियों के चक्कर लगा रहा दिव्यांग, जिम्मेवार नहीं दे रहे ध्यान...


पाटन। तहसील मुख्यालय स्थित पूर्ति विभाग के कर्मचारियों की मनमानी के चलते एक विकलांग बीते तीन महीने से अंत्योदय कार्ड के लिए चक्कर लगा रहा है। पीड़ित विकलांग ने आज एसडीएम से दया की भीख मांगते हुए अंत्योदय कार्ड दिलाए जाने की गुहार लगाई है।
 मामला सुमेरपुर ब्लाक क्षेत्र के रुकुम पुर गांव का है। यहां के रहने वाले विकलांग राकेश पुत्र रामदीन ने बताया कि वह पूरी तरह से भूमिहीन एवं बेरोजगार है। परिवार के पालन पोषण करने  में विकलांगता के चलते वह सक्षम नहीं है। करीब तीन महीने पहले उसकी पारिवारिक स्थिति को देखते हुए ग्राम प्रधान ने एक अपात्र का अंत्योदय कार्ड निरस्त कर राकेश की पत्नी मंजू देवी का अंत्योदय कार्ड बनाए जाने का प्रस्ताव दिया था। राकेश ने बताया कि इस प्रस्ताव को लेकर वह पिछले तीन महीने से तहसील मुख्यालय स्थित पूर्ति विभाग के कार्यालय के चक्कर लगा रहा है। इस दौरान उसका राशन कार्ड बनाए जाने के नाम पर एक कर्मचारी ने दो सौ रुपये सुविधा शुल्क भी लिया है। एसडीएम को प्रार्थना पत्र देते हुए राकेश ने अपनी विकलांगता व बैसाखी पर रहम किए जाने की गुहार लगाई है।


Popular posts from this blog

दबंगो की पिटाई से अधेड़ घायल, पीड़ित के पुत्रों ने पुलिस को दी तहरीर

शैक्षिक उन्नयन गोष्ठी में बोले बीएसए, शिक्षक अपने दायित्वों के प्रति सजग रहें...

स्पेशल ट्रेन से वापस लौटे श्रमिको को तीन दिनों के लिये नवोदय विद्यालय में क़वारन्टीन किया गया