...आखिर कब आयेगी वीरान पक्षी विहार में बहार

कभी यहां आते थे पर्यटक और सैलानी आज है वीरानी


उपेक्षा का शिकार दिख रहा पक्षी विहार


नवाबगंज उन्नाव। प्रकृति की अनुपम छटा और शहर के कोलाहल से दूर कभी नवाबगंज के शहीद चन्द्र शेखर आज़ाद पक्षी विहार पर्यटकों से गुले गुलज़ार रहता था।
लेकिन पर्यटन विभाग के रखरखाव की देखरेख के अभाव में यह पर्यटन स्थल दिनों दिन वीरान हो चला है।
कभी यहां के पार्कों और परिसरों में कहीं प्रेमी युगल अपने प्रेम का इज़हार करते मिलते थे तो कही पारिवारिक आयोजन व पिकनिक व मस्ती...
लेकिन यहां विगत कई वर्षों में अराजकतावादी ताकतों के चलते लोगो का यहां आना कम हो चला है।
सुविधाओ के नाम पर होटल मोटल तो पार्कों की हालत अति दयनीय दिखाई पड़ती है। इसके साथ ही सुरक्षा के व्यापक प्रबंध न होने के चलते लोग पर्यटन स्थल के नाम पर इस स्थान को भूल बैठे है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस ओर ध्यान देकर स्थल को विकसित कराने का कार्य शुरू कराया था जिसके चलते झील परिसर के आस पास काम भी शुरू हुआ लेकिन सरकार बदली तो निष्ठाये भी बदल गई तब से लेकर अभी तक यह पर्यटन स्थल सरकार के रहमो करम के बहार आने के इंतजार में पतझड़ झेल रहा है।


Popular posts from this blog

दबंगो की पिटाई से अधेड़ घायल, पीड़ित के पुत्रों ने पुलिस को दी तहरीर

शैक्षिक उन्नयन गोष्ठी में बोले बीएसए, शिक्षक अपने दायित्वों के प्रति सजग रहें...

स्पेशल ट्रेन से वापस लौटे श्रमिको को तीन दिनों के लिये नवोदय विद्यालय में क़वारन्टीन किया गया